सिंगल एप के ओनर कौन है – Signal App Owner Name in Hindi

WhatsApp की नई प्राइवेसी आने के बाद Signal App को बहुत डाउनलोड किया जाने लगा है। लेकन क्या आपको पता है की सिंगल एप के ओनर (Signal app owner) कौन है? आज आपको सिग्नल मैसेंजर ऐप क्या है और इसको किसने बना है।

व्हाट्सएप की नई प्राइवेसी पॉलिसी आने के बाद एक नया ऐप देखने को मिला है जिसका नाम सिग्नल है। कहां जा रहा है कि सिगनल एप पूरी तरह से सुरक्षित है जो आपकी प्राइवेसी का पूरी तरह से ख्याल रखता है। आज के इस आर्टिकल में हम जानेंगे कि सिग्नल एप क्या है और इसको किसने बनाया है सिग्नल एप के ओनर कौन है, और इसका इस्तेमाल कैसे किया जाता है। आइए सारी जानकारी को विस्तार से जानते हैं।

सिगनल एप क्या है – Signal App kya hai

सिग्नल एक सोशल मैसेजिंग ऐप है जिसका इस्तेमाल चैट करने के लिए किया जाता है यह व्हाट्सएप का ऑप्शनल है जोकि व्हाट्सएप से अधिक स्क्वेयर है। सिगनल एप एंड्रॉयड और आईओएस दोनों प्लेटफार्म के लिए उपलब्ध है यह पूरी तरह से फिर यह है इसमें किसी भी प्रकार की ऐड आपको नहीं दिखाई देगी। सिगनल ऐप से वीडियो कॉल और ऑडियो कॉल भी किया जा सकता है।

हिसाब से की जाने वाली चैटिंग और कॉलिंग पूरी तरह से प्राइवेट होती हैं जिसे कोई भी सर्विस प्रोवाइडर नहीं देख सकता। आप जो भी मैसेज करते हैं वह मैसेज लॉक होकर रिसीवर के पास जाता है जिसको आपने सेंड किया है। जब यह मैसेज आपको प्राप्त होता है तब यह अनलॉक होता है इसी बीच में कोई भी नहीं पढ़ सकता। आइए सिगनल ऐप के बारे में और विस्तार से जानते हैं।

Read More: WhatsApp का उपयोग करे या न करे? जानें WhatsApp Privacy Policy के बारे में

सिगनल एप को किसने बनाया – Who owns signal foundation in Hindi

अधिकांश लोगों के मन में यह प्रश्न है कि सिग्नल ऐप को किसने बनाया है और सिगनल ऐप के ओनर कौन है आज हम आपको सिगनल एप के ओनर का नाम बताएंगे साथ में यही बताएंगे कि वह किस कंट्री के हैं आइए के बारे में जानते हैं।

सिगनल फाउंडेशन एक non-profit ऑर्गेनाइजेशन है, जिसका उद्देश्य पैसे कमाना नहीं है। इसने ही सिगनल एप को बनाया है। इससे 10 जनवरी 2018 को बनाया था उसके फाउंडर ब्रायन एक्टन और मॉक्सी मर्लिंस्पिक हैं। सिगनल फाउंडेशन अमेरिकीय संगठन है और इसकी official website signal.org है।

इस ऐप को दो लोगों ने मिलकर बनाया है जिनके नाम ब्रायन एक्टन (Brian Acton) और Moxie Marlinspike है। ब्रायन एक्टन ने WhatsApp को बनाया था और फिर इसे फेसबुक को भेज दिया। बेचते समय उन्होंने ऐसी शर्त रखी की व्हाट्सएप को ऐड फ्री रखा जाएगा और इसमें यूजर की प्राइवेसी का पूरा ख्याल रखा जाएगा। लेकिन कुछ समय बाद फेसबुक के ओनर मार्क जकरबर्ग ने व्हाट्सएप को खरीदने के बाद इसमें ऐड दिखाने का सोचा, तो ब्रायन एक्टन ने इसे साफ साफ मना कर दिया। फिर इस विवाद की वजह से उन्होंने इस कंपनी को छोड़ दिया और सिग्नल मैसेंजर पर काम करने लगे।

Read More: OnePlus band review, specifications and price in Hindi

Moxie Marlinspike के साथ मिलकर ब्रायन एक्टन Signal App को बनाया है। Moxie Marlinspike एक क्रिप्टोग्राफर हैं जो क्रिप्टोग्राफ़ी करते है। इनको ही क्रिप्टोग्राफ़ी का जनक माना जाता हैं, जिसका उपयोग WhatsApp, Telegram और Facebook massenger पर भी किया जाता है। क्रिप्टोग्राफ़ी एक डिजीटल लैंग्वेज है जिसमें मैसेज को इनकोड कर दिया जाता है। इन मैसेज को केवल सेंड करने वाला और रिसीव करने वाला ही पढ़ सकता है।

Read More: Upcoming TLD Domain Release 2021 in Hindi

इस तरह से सिग्नल एप अधिक व्हाट्सएप से अधिक स्क्वेयर है और आपकी प्राइवेसी का अधिक ख्याल रखता है। इसी वजह से Signal App आज सभी जगह अपने जलवा दिखा रहा है। आप भी इस एप को ट्राय करके जरूर देखें।   

Read More: Best Lyrical Video Status Making Apps For Android in Hindi

Leave a Reply